Logo Ekvastra

Geet, Subhashita, AmrutVachan and Bodhkatha

User Tools


geet:धरती_की_शान

धरती की शान

धरती की शान, तू भारत की सन्तान, तेरी मुठ्ठियों में बन्द तूफ़ान है रे
मनुष्य तू बड़ा महान है, भूल मत, मनुष्य तू बड़ा महान है

तू जो चाहे पर्वत पहाड़ों को फोड़ दे, तू जो चाहे नदियों के मुख को भी मोड़ दे
तू जो चाहे माटी से अमृत निचोड़ दे, तू जो चाहे धरती को अम्बर से जोड़ दे
अमर तेरे प्राण –२ मिला तुझको वरदान, तेरी आत्मा में स्वयं भगवान हैं रे

नयनों से ज्वाल तेरी, गति में भूचाल, तेरी छाती में छुपा महाकाल है
पृथ्वी के लाल तेरा, हिमगिरी सा भाल, तेरी भृकुटी में तान्डव का ताल है
निज को तू जान –२ जरा शक्ति पहचान, तेरी वाणी में युग का आह्वान है रे

धरती सा धीर तू है अग्नि सा वीर, तू जो चाहे तो काल को भी थाम ले
पापोंका प्रलय रुके पशुता का शीश झुके, तू जो अगर हिम्मत से काम ले
गुरु सा मतिमान् –२ पवन सा तू गतिमान, तेरी नभ से भी उंची उड़ान है रे

IAST transliteration

dharatī kī śāna, tū bhārata kī santāna, terī muṭhṭhiyoṃ meṃ banda tūfāna hai re
manuṣya tū badā mahāna hai, bhūla mata, manuṣya tū baड़ā mahāna hai

tū jo cāhe parvata pahādoṃ ko phod de, tū jo cāhe nadiyoṃ ke mukha ko bhī mod de
tū jo cāhe māṭī se amṛta nichod de, tū jo cāhe dharatī ko ambara se jod de
amara tere prāṇa –2 milā tujhako varadāna, terī ātmā meṃ svayaṃ bhagavāna haiṃ re

nayanoṃ se jvāla terī, gati meṃ bhūcāla, terī chātī meṃ chupā mahākāla hai
pṛthvī ke lāla terā, himagirī sā bhāla, terī bhṛkuṭī meṃ tānḍava kā tāla hai
nija ko tū jāna –2 jarā śakti pahacāna, terī vāṇī meṃ yuga kā āhvāna hai re

dharatī sā dhīra tū hai agni sā vīra, tū jo cāhe to kāla ko bhī thāma le
pāpoṃkā pralaya ruke paśutā kā śīśa jhuke, tū jo agara himmata se kāma le
guru sā matimān –2 pavana sā tū gatimāna, terī nabha se bhī uṃcī uड़āna hai re