अब जाग उठो कमर कसो मंजिल की राह बुलाती है

अब जाग उठो कमर कसो मंजिल की राह बुलाती है
ललकार रही हम को दुनिया भेरी आवाज लगाती है

है ध्येय हमारा दूर सही पर साहस भी तो क्या कम है
हम राह अनेको साथी हैं कदमों में अंगद का दम है
असुरो की दुनिया राख करें वह आग लगाने आते हैं ।

पग पग पर कांटे बिछे हुये व्यवहार कुशलता हम में है
विश्वास विजय का अटल लिये निष्ठा कर्मठता हम में है
विजयी पुरखों की परम्परा अनमोल हमारी थाती है ।

हम शेर शिवा के अनुगामी राणा प्रताप की आन लिये
केशव माधव का तेज लिये अर्जुन का शरसन्धान लिये
संगठन तन्त्र की शक्ति हीं वैभव का चित्र सजाती है ।

aba jāga uṭho kamara kaso maṃjila kī rāha bulātī hai
lalakāra rahī hama ko duniyā bherī āvāja lagātī hai

hai dhyeya hamārā dūra sahī para sāhasa bhī to kyā kama hai
hama rāha aneko sāthī haiṃ kadamoṃ meṃ aṃgada kā dama hai
asuro kī duniyā rākha kareṃ vaha āga lagāne āte haiṃ ।

paga paga para kāṃṭe biche huye vyavahāra kuśalatā hama meṃ hai
viśvāsa vijaya kā aṭala liye niṣṭhā karmaṭhatā hama meṃ hai
vijayī purakhoṃ kī paramparā anamola hamārī thātī hai ।

hama śera śivā ke anugāmī rāṇā pratāpa kī āna liye
keśava mādhava kā teja liye arjuna kā śarasandhāna liye
saṃgaṭhana tantra kī śakti hīṃ vaibhava kā citra sajātī hai ।

MP3 link